OmTimes News : अंतरिक्ष में रॉकेट और सेटेलाइट का टुकड़ा टकराने से बाल-बाल बचा , स्पेस में टला बड़ा हादसा

न्यूयॉर्क / नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स) अंतरिक्ष के क्षेत्र से एक राहत भरी की खबर सामने आई है। अंतरिक्ष में मलबे के तौर पर पड़ी रूसी सेटेलाइट और एक निष्क्रिय चीनी रॉकेट के बीच संभावित टक्कर का खतरा टल गया है। स्पेस जंक को ट्रैक करने वाली कैलिफोर्निया की कंपनी लियोलैब्स ने आशंका जताई थी कि इन दो ऑब्जेक्ट्स की टक्कर होने पर कई सेटेलाइट्स को नुकसान पहुंच सकता है।
लियोलैब्स ने कहा कि रूसी सेटेलाइट और निष्क्रिय चीनी रॉकेट का संयुक्त द्रव्यमान लगभग 2800 किलोग्राम था। स्पेस डॉट कॉम ने बताया कि यदि दोनों ऑब्जेक्ट्स की आपस में टक्कर हो जाती तो मलबे का एक विशाल बादल पैदा हो गया होता। क्योंकि वे 52950 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ एक-दूसरे की तरफ बढ़ रहे थे। शुक्रवार को 1256 जीएमटी पर दोनों ऑब्जेक्ट्स एक-दूसरे के काफी करीब थे।
गनीमत रहा कि यह आपस में टकराए नहीं। दोनों ऑब्जेक्ट्स को कॉस्मोस 2004 और सीजेड-4सी आर/बी नाम दिया गया था। लियोलैब्स ने अपने एक ट्वीट में जानकारी दी है कि उनके हालिया डाटा यह पुष्टि करते हैं कि कॉस्मोस 2004 अभी भी बरकरार है। कंपनी ने बताया कि वह इस पर नजर बनाए हुए है और भविष्य के जोखिम पर जानकारी साझा करती रहेगी। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी की ओर से अंतरिक्ष मलबे पर जारी की गई एक रिपोर्ट का अनुमान है कि वर्तमान में अंतरिक्ष में एक 10 सेंटीमीटर से बड़ी 34000 वस्तुएं मलबे के रूप में घूम रही हैं।
दुनिया का पहला कृत्रिम उपग्रह स्पिुनिक-1 1957 में लांच किया गया था। इसके बाद से विभिन्न देशों की ओर से कई हजारों उपग्रह भी भेजे जा चुके हैं। दुनियाभर की अंतरिक्ष एजेंसियां ऐसे मलबे पर नजर भी रखती हैं। फिर भी इनकी बढ़ती तादाद को देखते हुए इन्हें ट्रैक करना एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है। यदि यह मलबा आपस में टकराता है तो इससे अंतरिक्ष में स्थापित सेटेलाइ्टस को क्षति पहुंच सकती है।
अंतरिक्ष का मलबा यानी स्पेस जंक से तात्पर्य यह है कि कुछ ऐसा अवशेष जो नष्ट हो गया हो या टूट गया हो। इसमें खंडित और पुराने उपग्रहों और रॉकेट के अवशेषों को शामिल किया जाता है। ये अवशेष पृथ्वी की कक्षा में गुरुत्वाकर्षण बल के कारण घूमते रहते हैं और एक-दूसरे से टकराते रहते हैं तथा मलबे पैदा करते हैं। इनकी संख्या अंतरिक्ष में दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

लेखक: OM TIMES News Paper India

omtimes news paper (Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रकाशक एवं प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 , 6307662484 🇮🇳 ऊँ टाइम्स

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s