सुशांत सिंह केस में NCB का एक और ऐक्शन, 4 और ड्रग पेडलर को किया गिरफ्तार

मुंबई ( ऊँ टाइम्स omtimes ) फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह की मौत के मामले में ड्रग एंगल की जांच कर रही एनसीबी की टीम इस समय पूरे एक्शन में है। इस केस में रिया चक्रवर्ती, भाई शौविक चक्रवर्ती और सैम्यूअल मिरांडा समेत कई लोगों पर शिकंजा कसने के लिए एनसीबी लगातार छापेमारी कर रही है। इसी के तहत कार्रवाई करते हुए एनसीबी ने मुंबई से चार और ड्रग पेडलर्स को भी हिरासत में लिया है। इससे पहले हिमाचल प्रदेश के ड्रग पेडलर राहिल विश्राम को 1 किलो चरस के साथ पकड़ा गया। एनसीबी ने उसके पास से 4.5 लाख रुपये नकद भी जब्त किया है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के ज़ोनल डायरेक्टर ने बताया कि राहिल का सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले से संबंधित अन्य पेडलर्स से सीधा संपर्क है।
वहीं, सुशांत की पूर्व मैनेजर दिशा सलियन की मौत पर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं। कहा जा रहा है कि मौत से पहले दिशा ने 100 नंबर पर कॉल किया था। जिसपर मुंबई पुलिस की तरफ से बयान आया है। पुलिस के एक अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि दिशा सलियन के फोन से आखिरी कॉल उनकी दोस्त अंकिता को की गई थी। उसके आखिरी बार 100 नंबर डायल करने का जो दावा किया जा रहा है, वह गलत है। दिशा सलियन 8 जून को मुंबई में मृत पाई गई थी।
इससे पहले एनसीबी सुशांत केस में ड्रग से जुड़े दो और लोगों को गिरफ्तार किया था। इसमे से एक शौविक का दोस्त जयदीप मल्होत्रा है, जिसे 18 सितंबर तक एनसीबी की हिरासत में सौंप दिया गया है। जबकि एनसीबी की टीम ने गोवा में छापा मारकर क्रिस कोस्टा को दबोचा। मुंबई लाकर उसकी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेशी कराई गई। उसे 17 तक एनसीबी के हवाले किया गया है। इन दोनों को मिलाकर एनसीबी इस मामले में अब तक 19 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

एनसीबी के एक सदस्य के कोरोना पाजिटिब होने की वजह से श्रुति मोदी से पूछताछ नहीं हो सकी। सुशांत की पूर्व मैनेजर श्रुति को एनसीबी ने टैलेंट मैनेजर जया साहा के साथ तलब किया था। एसआइटी उससे पूछताछ शुरू ही करने वाली थी तभी टीम के एक सदस्य के कोरोना पाजिटिव होने की रिपोर्ट आ गई। इस पर टीम के सभी अन्य सदस्यों की कोरोना जांच कराने का फैसला किया गया। एनसीबी के एक अधिकारी ने बताया कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए श्रुति को बिना पूछताछ के लौटा दिया गया।
रिया चक्रवर्ती द्वारा सुशांत सिंह की दो बहनों प्रियंका, मीतू और दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डाक्टर तरुण कुमार के खिलाफ मुंबई के बांद्रा थाने में दर्ज कराई गई एफआइआर पर सीबीआइ कानूनी परामर्श ले रही है। डाक्टर पर सुशांत के लिए घबराहट के इलाज के लिए फर्जी नुस्खा लिखने का आरोप लगाया गया है। सीबीआइ सूत्रों के अनुसार एजेंसी जल्द ही इस मामले में कोई निर्णय लेगी। किसी निर्णय पर पहुंचने के लिए सभी पहलुओं को समझने के लिए वह कानून के जानकारों से राय लेना जरूरी समझ रही है।

लेखक: OM TIMES News Paper India

omtimes news paper (Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रकाशक एवं प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 , 6307662484 🇮🇳 ऊँ टाइम्स

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s